कैलाश पर्वत पर आज भी है शिव पार्वती , देखें यह विडियो !

Loading...

भारत के लोगों में भगवान् को लेकर जितनी आस्था पायी जाती है उतनी शायद ही कही और देखने को मिलती है . इसका सबसे बड़ा सबूत है उत्तराखण्ड जहाँ हर साल भक्तो के लिए कैलाश मानसरोवर की यात्रा का प्रबन्ध किया जाता है तो इस साल भी ऐसा ही हुआ . इस यात्रा का रास्ता भारत और चीन की सीमा से होकर निकलता है . वैसे इस बार भी इस यात्रा में लाखो भक्तो ने शिरकत दी . पर इस बार कुछ ऐसा हुआ जिससे सारे लोग हैरान हो गए . जी हां कहा जा रहा है कि अब की बार कैलाश पर्वत पर एक छाया दिखाई दे रही है जो कि किसी और की नहीं बल्कि भगवान् शिव की ही है . लोगों ने इस पल को तस्वीर में कैद कर लिया और आज कल ये तस्वीर काफी वायरल भी हो रही है .

क्या वास्तव में उभरी है भगवान् शिव की छाया या केवल नज़र का धोखा है :

पर अगर सच में देखा जाये तो ये सुनने को मिल रहा है कि ये तस्वीरे 2005 की है जो गूगल अर्थ से ली गयी है और ये अब वायरल हो रही है . तो क्या हम ये समझे कि श्रद्धा के नाम पर लोगों की भावनाओ से खिलवाड़ किया जा रहा है और जो तस्वीरे तब देखी गयी थी वो आज लोगों के सामने दिखा कर उनको झूठ दिखाया जा रहा है . वैसे आपको बता दे ये तस्वीरे तब एक यूट्यूब यूजर द्वारा अपलोड करके डाली गयी थी . लेकिन अगर आज की बात करे तो इस समय लोग इन तस्वीरो को देख कर काफी उत्साह दिखा रहे है . इसलिए तो यूट्यूब पर इसे 10 हज़ार से ज्यादा बार शेयर किया जा चुका है और फेसबुक पर भी हज़ारो लाइक्स मिल चुके है . फ़िलहाल इन तस्वीरो को लेकर अभी और प्रतिक्रिया मिलने की उम्मीद भी बाकी नज़र आ रही है .

भक्तो की श्रद्धा कम नहीं होगी :

यही तो लोगों की भक्ति है उनके लिए केवल भगवान् की छवि जरुरी है ये नहीं कि छवि कब और कैसे दिखाई दी . हालांकि इन सब बातों पर विश्वास न करने वालों का मानना है कि जब बादल तैर कर अलग अलग प्रकार की आकृतियां बनाते है तो लोग उसे किसी भी तरह भगवान् से जोड़ देते है . अब इस बात में कितना सच है और कितना झूठ ये तो कहा नहीं जा सकता क्योंकि सबकी अपनी अपनी सोच होती है . पर ये तो तय है कि इन सब बातों से न लोगों की भगवान् के प्रति आस्था कम होगी और न ही इन सबको न मानने वाले लोगों की विचारधारा बदलेगी .

Video देखें पृष्ठ न. 2 पर

वैसे इन तस्वीरो को इसलिए भी तवज्जु दिया जा रहा है क्योंकि ये भगवान् से सम्बंधित है और जो बातें धर्म से सम्बंधित हो या धार्मिक हो उसे लोग ज्यादा ही पसंद और शेयर करते है . ये भी इसकी एक वजह हो सकती है . एक और मान्यता के अनुसार ये कहा जाता है कि कैलाश पर्वत पर ही भगवान् शिव का वास है शायद यही वजह है कि ये स्थान भगवान् को ही नहीं बल्कि भक्तो को भी उतना ही प्रिय है . इसी स्थान से भारत, नेपाल, पाकिस्तान और बांग्लादेश को जीवन देने वाली नदियां ‌ब्रह्मपुत्र, सिंधु और सतलुज निकलती हैं। इसलिए तो इन नदियों का भी उतना ही महत्व है .

ये सब पढ़ने के बाद ये तो पक्का है कि वहां जाने वाले लोगों की तदार बढ़ने वाली है पर हम बस इतना ही कहना चाहेगे कि भले ही भगवान् की छवि दिखे या न दिखे पर भगवान् में अपनी आस्था कभी कम मत कीजियेगा क्योंकि भगवान् को अपने भक्त सबसे ज्यादा प्रिय है इसलिए तो वो किसी न किसी तरह आप पर हमेशा अपनी कृपा बनाये ही रखते है .

 

Loading...